साजिश के चंगुल में “मौत” है

जिस में कुछ नहीं बचा है
उस में से जो बचा है
उसे क़त्ल करते वक्त
रोज़ मैं ख़ुद का खून करता हूँ |
मौत की अब साजिश नहीं
साजिश के चंगुल में “मौत” है |
आत्महत्या का ये नाकार यत्न
मुझे जिन्दा रखकर
रोज़ मुझे मार जाता है |

(फोटो – गूगल  से )

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s