16 साल की एक लड़की

जहाँ किसी लकीर का अस्तित्व नहीं
वहां क्या सीमा निर्धारित करना
अतिरेक से परे भी है कुछ
मोक्ष में भी जो शामिल नहीं |
तराजू हर भार नहीं उठा सकता
मापने वालो कुछ चीजे छोड़ दो
जैसे अपनी छाती देखकर
मन ही मन
खुश होती है
16 साल की एक लड़की |

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s