मेरा ये हाल

नायक एक ऐसा व्यक्ति है जो फ़िल्मकार और लेखक बनना चाहता था और उसे दोनों चीजो का अद्भूत ज्ञान है | परिस्थिति उसे थोडा पागल बना देती है और उसके दिमाग में फिल्म और लेखन से जुड़े लोग घर कर चुके है और वो उसके जिन्दगी में उसे गोण करते जा रहे है | वहीँ दूसरी और उसकी इस अवस्था से तंग आ कर उसकी प्रेमिका उसे छोड़ चुकी है | केवल खुद को देखे तो अपूर्ण लेकिन उसके अन्दर कई लोग पूर्णता कि होड़ मैं शामिल है |

(गाता हुआ मंच पर आता है)

                                    पत्ता पत्ता बूटा बूटा                                                                                                                                                        हाल हमारा जाने है                                                                                                                                                      जाने ना जाने गुल ही ना जाने                                                                                                                                        बाग़ तो सारा जाने है |                                                                                                                                                 पत्ता पत्ता बूटा बूटा…..                                                                                                                                                      ये दुनिया बिजली गिराए                                                                                                                                              ये दुनिया कांटे बिछाए                                                                                                                                                  इश्क भला कब माने है …

इश्क इश्क …..इश्क इश्क….इश्क दू… दू… दू … दूर रहो मुझसे…सब झूठ है सारी चीजे व्यर्थ है …..नहीं नहीं पास मत आओं मेरे….हाँ हाँ वही रुक जावो…हिलो  मत …मना किया ना तुम्हे ….नहीं सुनते किसी कि …ये इश्क नालायक बच्चा है …किसका बच्चा है ये …किसका है ? मैं पूछ रहा हूँ कहाँ से  आये तुम ? ऐसे तो बहुत बकर बकर करते हो …अब जुबान कट गई ? नाजायज इश्क़ ..नाजायज इश्क खतरनाक है …लेकिन अनाथ इश्क़ जानलेवा हैं | कहाँ चल दिए ? अब  किसे बर्बाद करोगे ? चैन नहीं मिलता तुम्हे ? आआअह्हह्हह …भागा भागा ….हमेशा मारकर ही भागता है |

मैंने बहुत सारे ख़त सोना, तुम्हे लिखने से पहले जला दिए | पता है ….तुम्हे तो हर चीज़ पता होती है ….खैर फिर भी सुनो …जब उन खतो को मैंने जलाया …तो उनमे से किसी से भी धूआँ नहीं निकला ….बिलकुल भी नहीं …जैसे उन्हें जलाया नहीं गया ….बल्कि उनका गला घोंटा गया हो ….वो भी मुह पर तकिया रख कर ….ख़त सारे जल गए …सिर्फ और सिर्फ राख बची ….दिलचस्प बात तो ये है सोना कि जो ख़त मैंने जला दिए ….मैं आज भी उन्ही खतो के जवाब का इंतजार कर रहा हूँ ….और इसी चक्कर मैं, पोस्ट मेन से लड़ाई हो गई |…..हा हा हा हा ……..( हँसते हँसते रोने लगता है ) …अब लगता है सोना कोई कासिद बचा ही  नहीं ….कोई भी नहीं …..और तुम ….तुम भी कहाँ हो ….

“मेरा ये हाल बस तेरे सर से जाता है                                                                                                                            वगरना मेरे जख्म को देख नमक डर जाता है |                                                                                                            मैं भी कुछ देर चलकर देखूं तो जरा                                                                                                                              ये कौनसा रास्ता है जो वापिस नहीं आता है |

ग़ालिब – चोसर लाओ मिया…..ये आगे…अरे पासा कहाँ है ?…वहीँ दिवार में एक खिड़की रहती है वहां से उठा लाओ …चलो चलो बैठो ….छः आदमी है जनाब थोडा जगह बनाओ

मंटो  – और दाव पर क्या लगावोगे गुनाहों के देवता

कपोटे – दिल्ली लगा दे क्या ?

ग़ालिब – दिल्ली….हमारे महबूब कि सीरत कि तरह दिल्ली कि सूरत बदलती रहती है ….१७०० सदी से ….कोई फायदा नहीं जनाब

चलो चलो में चलूँगा सब कि चाल मैं ईश्वर हूँ ….                                                                                                            ईश्वर …हा हा हा हा ….मैं गीता पर हाथ रखकर कहता हूँ ईश्वर मर चूका हैं |

ये ये ये ….(हाथ घुमाता है )

अर्रेअरे अरे  – तीन

अमित दत्ता ….चलो शुरू हो जावो अमित

अमित – मैं सोच रहा था कि ये सूर्य जहाँ से निकलता है उस के पीछे नहर खुदवा दूँ | ….चलो …अपनी समझ जेब में रख …पिताजी एक दिन दहाड़े थे …तब से में समझ को जेब में रखकर घूम रहा हूँ |

मंटो–अगली चाल जल्दी चलो मेरी बेटी इंतजार कर रही है |

अकिरा – एक द्रश्य चार बाते …बेटी तक पहुँचने के रास्ते में मधुशाला है ना ?

….हाथ घुमाता है और चाल चलता है ….

……….ये ये ये 2 नहीं नहीं चार

मंटो – खुदा बड़ा अफसाना निगार है या मैं ….मैं कोई दर्जी नहीं जो लोगो के कपडे सिलता रहूँ …अगर मेरे अफ़साने नाकाबिले बर्दास्त है तो ये दुनिया भी बर्दास्त करने लायक  नहीं …ये नंगी  है तो मैं इसे नंगा दिखाऊंगा …..

अरे अरे मंटो साहब कहाँ चल दिए ….

मुझे टोबा टेक सिंग बुला रहा है …कब तक सरहद पर बैठा रहेगा …रास्ते से एक काली सलवार भी ले जाऊंगा ..

…….क्या आया ….मियाँ पांच …

कपोटे …इरसाद इरसाद ….

अरे ग़ालिब खुद इरसाद कर रहे है ….कुछ तो बोलो…

ओह्ह्ह्ह …आज फ्राइडे है ….खैर रहने दीजिये |

…..अगली चाल……

एक ….अकिरा कुरोसोवा …क्या नज़र है …

अकिरा कुरोसोवा –  तुम्हे लग रहा है कि मैं एक अकेला खेल रहा हूँ चोसर …लेकिन यहाँ है बारह आँखे …सेकड़ो दिमाग …लाइट थोड़ी और हलकी …कैमरा मूव नहीं करेगा ….एक गरीब अहसाय मेरी जैसी औरत क्या कर सकती है आखिर ? मैंने उसे मर जाने दिया …क्योंकि मेरी आँखों में उसका मरना तुम्हारी आँखों में उसके जिन्दा रहने से अच्छा है |

ये लो 2 आ गया …किस नाम से पुकारे पुरे 72 नाम से लिखते है जनाब ..

पैसोआ – मेरी लेखनी बताती है मैं कौन हूँ | परनामी ..उपनामी ..या खुद में …ग़ालिब बैठे है इसलिए अब पैसोआ हूँ ….देखना किसी चीज़ को पहली बार होता है जानने से बेहतर ….क्योंकि जानने का मतलब है ना देख पान पहली बार उसे ..ग़ालिब – वाह वाह ……

ये लो छह भी आ गया …..कौन है ?

बच्चे नादाँ हो लगता है… बहुत ….वो पूछते है कि ग़ालिब कौन है ….बतालावो  कि हम बतलाये क्या ?..

“जी मैं ही कुछ नहीं है हमारे वगरना हम                                                                                                                           सर जाए या रहे ना रहे कहे बगेर                                                                                                                             ग़ालिब ना कर हजुर में तू बार बार अर्ज                                                                                                               जाहिर है तेरा हाल अब सब उनपर कहे बगेर |

मियां कहाँ चल दिए एक और …बस एक और ….कैसे रहूँगा जिन्दा….फिल्म तो अटकी पड़ी है | एक शेर और मिया ….कपोटे कोई सीन तो बता दो ….कहाँ चले सब …अमित मुझे समझ आ गया कि शहर का आकर क्या है …

बच्चे तुम दिल्ली रख लो …

ओह्ह्ह्ह दिल्ली नहीं …ग़ालिब चहिये …मैं जा रहा हूँ ..मुझे फ्रेंच कनेक्शन देखना है ….दिल्ली…नहीं नहीं …चाहिए ….लाइट ….कैमरा …एक्शन …( गाते हुए बाहर निकलता है )

ये दिल्ली अगर मिल भी जाये तो क्या है                                                                                                                        यहाँ अब ना ग़ालिब ना उनकी ग़ज़ल है                                                                                                                          ना जोक का कोई शेर ना मीर कि फसल है                                                                                                                   यहाँ ना कोई हमराही सिर्फ हरजाई है                                                                                                                              जब जब हाथ थामा कीमत चुकाई है                                                                                                                           ये दिल्ली अगर मिल भी जाए तो क्या है |

( चित्र – दोस्त की फेसबुक दीवार से , सम्बंधित लेखक और फिल्मकारों की कुछ पंक्तिया उपयोग की गई है )

 

 

 

 

 

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s