About

सदियों पहले एक शख्स ने कलम उठाकर ,जज्बातों को कागज पर इस तरह सजाया कि हर आदमी का हाल हर आशिक का ख्याल मुकम्मल हो गया |आज भी बही दास्तान                                                                              

 “जी ढूँढता हे फिर वही फुर्सत के रात दिन                                                                                                                    बैठे रहे तसव्वुर-ए-जानाँ किये हुए”

आज भी दर्द लगता  हैं हुबहू है  –

याद है ग़ालिब तुम्हे वो दिन की वजह ए जोक में                                                                                                 जख्म से गिरता मैं  पलकों से चुनता था नमक |

एक और शख्स था जो अब शख्स नहीं शख्सियत हो गई है  | जिसके जूनून की वजह से आज हमें सिनेमा मयस्सर हो पाया है  | जिसे समाज सिरफिरा समझने लगा था | बीबी के जेवर बेचकर दादा साहेब फाल्के ऐसी इल्म सीखकर आये और हिंदुस्तान को सिखाई की वो दुनिया के जेवर हो गए |

मैं  उसी पागलपन का एक छोटा सा किस्सा हूँ , मैं  उसी जूनून का एक कतरा हूँ | मैं  बहती हुई वो नदी हूँ जिसका कोई समंदर नहीं हैं  , मैं भंवर में तो हूँ पर मुझे साहिल की तलाश नहीं , आसमां तो हूँ पर मेरे तारे जाने कहाँ हैं , जाने कहाँ हैं |   मैं  बस एक लम्हा हूँ जिसे गुजरने में जिन्दगी लगेगी |

मैं  ………. –

“मोहब्बत में फरेब का सहारा लूँ मुझे मंजूर नहीं                                                                                                        मैंने कभी अदरक नहीं डाले बन्दर के सामने”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s